*हमें ग्राहक सेवा एवं अनुपालन पर और अधिक जोर देने की जरूरत है- शरद स0 चांडक, मुख्य महाप्रबन्धक* *न हमें रूकना है और न थकना है- दिनेश कुमार सिंह, महामंत्री* लखनऊ। स्टेट बैंक ऑफ इण्डिया स्टॉफ एसोसियेशन, लखनऊ मंडल द्वारा 11वां त्रैवार्षिक अधिवेशन आज आनन्दी वाटर पार्क स्थित हॉल में *कामरेड अजय पाण्डेय की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ। अधिवेशन के मुख्य अतिथि शरद स0 चांडक, मुख्य महाप्रबंधक, भारतीय स्टेट बैंक, लखनऊ मंडल व विशिष्ट अतिथिगण काम0 संजीव कुमार बंदलिश, (चण्डीगढ) व काम0 अरूण भगोलीवाल (भोपाल)* के साथ स्टेट बैंक के विभिन्न मंडलों के अध्यक्ष, महासचिव, पर्यवेक्षकों के साथ 1400 से अधिक सदस्य उपस्थित रहे। प्रारम्भ में श्री गणेश व माँ सरस्वती की वंदना तथा दीप प्रज्ज्वलन के साथ अधिवेशन का शुभारंभ किया गया। *कार्यक्रम में मुख्य अतिथि श्री शरद स0 चांडक, मुख्य महाप्रबन्धक ने कहा-‘‘हमें ग्राहक सेवा एवं अनुपालन पर और अधिक जोर देने की जरूरत है, जो बैंक अपनी सेवाओं और अनुपालन में आगे रहेगा वही बैंकिग सेक्टर में रह सकेगा’’ मंडल महांमत्री काम0 दिनेश कुमार सिंह ने मुख्य मांगो यथा श्रमिक विरोधी कानूनों की समाप्ति, बैंकों के निजीकरण का विरोध, सभी कर्मचारियों को बोनस, पाँँच दिवसीय बैंकिंग शीघ्र करने, आउट सोर्सिंग को समाप्त करने, पेंशन और पारिवारिक पेंशन को अपडेट करने हेतु भारत सरकार को इन्हें शीघ्र लागू करने पर जोर दिया तथा कहा- ‘‘न हमें रूकना है और न थकना है।’’* *सभा में संजीव कुमार बंदलिश (संयोजक-यूएफबीयू तथा महामंत्री -एआईएसबीआईएसएफ) ने बताया हमारा संगठन 20 जुलाई 1920 को पंजीकृत हुआ, जो आज लाखों सदस्यों के साथ एक विशाल वटवृक्ष बन चुका है। उन्होंने वेतन समझौते पर हुये अनेक लाभों बारे में अवगत कराया। काम0 अरूण भगोलीवाल (अध्यक्ष- एआई एसबीआई एसएफ) ने स्व0 काम.एम आर. अवस्थी के बारे में बताया-‘‘हमारे संगठन का यह स्वरूप उनके अथक परिश्रम, त्याग एवं बलिदान का परिणाम है।’’ सभी ने काम.एम आर. अवस्थीे के चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्वांजलि दी।* *इस अवसर पर काम0 संजीव कुमार बंदलिश, (चण्डीगढ) व काम0 अरूण भगोलीवाल, (भोपाल) जो इसी माह सेवानिवृत्ति हो रहे हैं, को अंगवस्त्र तथा स्मृति चिन्ह देकर विशेषरूप से सम्मानित किया गया।* अधिवेशन को राजीव सिंह सेंगर, अनिल कुमार गौतम, प्रदीप के0 वैश्य, जी0 कृपाकरन, आर0 श्रीराम, एल0 चन्द्रशेखर, अभयदेव शर्मा, सुदीप दत्ता, इकबाल सिंह मलाही, सतीश कुमार झिंगन, वी. श्रीधरन, पी.ए. ख्वाजा फकरूदीन, मनमोहन कपूर, पंकज कौशिक, दिबाकर चक्रवर्ती, श्यामंता कोनवार, सी.एच. श्रीधर, के.एस. शाडिल्य, अजात शत्रु, विनोद तनवर, सतीश एम. राने, शिवप्रसाद पी. भामरे, मुन्ना कुमार झा, राजू कुमार सिंह, रजथ एच.सी., अखिल एस., राजेश कुमार कौशल, एम. श्रीनिवास, कुलदीप सिंह बावेजा, मनीष आर. सूर्वे आदि ने संबोधित किया। प्रतिनिधि सत्र में महामंत्री रिपोर्ट तथा संगठन के आय-व्यय का विवरण प्रस्तुत किया गया। इसके पश्चात बैंकिंग क्षेत्र की समस्याओं से जुड़े प्रस्तावों को भी राष्ट्रीय कार्यकारिणी के विचारार्थ एवं स्वीकार करने हेतु प्रस्तुत किया गया। कार्यक्रम के आयोजन में *शिवकुमार सिंह, आशुतोष वर्मा, तारकेश्वर चौहान, आशीष विश्वकर्मा, आर.पी.सिंह, ब्रजेश तिवारी, अदनान रसूल, अंकुर अग्रवाल, इंद्रराज यादव, दीपेन्द्र शुक्ला, राकेश वर्मा, सतीश शुक्ला, राजेश शुक्ला, अनुपम कुमार एवं अनिल तिवारी आदि का सराहनीय सहयोग रहा। मंच का सफल संचालन काम0 आशुतोष वर्मा एवं सुश्री शुभ्रा अग्रवाल द्वारा किया गया। अंत में मंडल अध्यक्ष काम0 अजय पाण्डेय* ने सभी अतिथियों तथा देशभर से आये हजारों साथियों को धन्यवाद ज्ञापित करते हुये सभी सदस्यों को इसी प्रकार एकजुट बने रहने का आवाह्न किया।