जयपुर :आरटीई के तहत शिक्षा देने में राजस्थान बना देश का पहला राज्य

Posted at : 2018-03-10 05:07:12

जयपुर । राजस्थान आज देश का पहला ऎसा राज्य है जहां साढे़ छह लाख से ज्यादा बच्चे आरटीई के तहत शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। नियमानुसार स्कूल की 25 प्रतिशत सीटों पर निर्धनतम बच्चों को प्रवेश देने का यहां प्रावधान है । प्रदेश में 36 हजार से ज्यादा निजी स्कूलें संचालित हो रही हैं। सभी निजी स्कूलों में फीस निर्धारण समिति के तहत फीस निर्धारित की जाती है। समिति में स्कूली प्रबंधन सहित 10 लोग मिलकर फीस तय करते हैं। यदि कोई अभिभावक वहां से सुतंष्ट नहीं होता तो संभागीय आयुक्त द्वारा गठित समिति में अपनी शिकायत कर सकता है। वहां भी राहत नहीं मिलने पर अभिभावक की व्यक्तिगत शिकायत पर कार्यवाही की जाती है। इस बारे में और विस्‍तार से शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) वासुदेव देवनानी ने बताया कि आरटीई के तहत प्रदेश की सभी स्कूलों के पुनर्भरण में राजस्थान नंबर एक है। राज्य सरकार ने 2016-17 में आरटीई के तहत 264 करोड़ 29 लाख रुपए पुनर्भरण के लिए स्कूलों को दिए। उन्होंने कहा कि सरकार ने सभी निजी स्कूलों के लिए आदेश निकालकर पांबद किया हुआ है कि तय पाठ्यक्रमों के अनुसार ही पुस्तकें पढ़ाई जाएंगी। नियमों के अनुसार स्कूल खुलने के एक महीने में पुस्तकों का नाम, लेखक और दर सार्वजनिक करे और कम से कम तीन दुकानों पर पुस्तकें उपलब्ध हो। यही नहीं स्कूलों को 5 वर्ष से पहले ड्रेस नहीं बदलने के भी निर्देश दिए हुए हैं।