(धर्मेंद्र सिंह )लखनऊ :मुलायम के आशीर्वाद के साइड इफेक्ट

Posted at : 2019-02-14 02:34:43

(धर्मेंद्र सिंह )लखनऊ :लोकसभा में बुधवार को खचाखच भरे सदन में सपा सरंक्षक मुलायम सिंह यादव ने अपने एक वयान से सभी का मन मोह लिया सिर्फ कुछेक विपक्षियों को छोड़कर। अब नेता जी के वयान पर पूरे देश के राजनैतिक विश्लेषक अपना दिमाग खपाने में जुट गये है. क्योंकि ये वयान देश में धोबी पछाड़ ,धरती पुत्र मुलायम से ने दिए है इसलिए वयान पर मंथन करना कोई मामूली बात नहीं है। खैर बड़े विद्वानों के विश्लेषण बाद में पढ़ लीजियेगा। मुलायम सिंह जी के "आशीर्वाद "के शुरुआती साइड इफेक्ट के बारे में हम आपको बताने की कोशिश कर रहे हैं। मुलायम सिंह जी अपने भाषणों में बहुत दूर की बात करते हैं। उनकी हरेक बात के " अर्थ" कुछ नए और दूरगामी परिणाम देने वाले होते है। इसीलिए देश के राजनैतिक दलों के पुरोधा भी नेता जी के धोबी पछाड़ "ट्रिक्स "को खूब बारीकी से समझते है। बुधवार को भरे सदन में सत्र के अंतिम दिन मुलायम सिंह ने पक्ष -विपक्ष सभी को अचंभित कर दिया जब उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल की प्रशंसा करते हुए 2019 लोकसभा में विजय होने के साथ साथ पीएम बनने की शुभकामनाएं दे दीं। लेकिन मुलायम सिंह ने जो आशीर्वाद पीएम मोदी को दिया है उसके कई मायने निकाले जा रहे हैं। राजनैतिक विद्वानों का कहना है कि नेता जी का आशीर्वाद सिर्फ और सिर्फ अपने लाड़ले पुत्र अखिलेश के लिए ही हमेशा के लिए "रिज़र्व" है जिसे कोई नहीं छीन सकता है।आशीर्वाद तो उन्होंने 2014 में मनमोहन सिंह को भी पीएम बनने का दिया था। लेकिन क्या हुआ, सबके सामने है। अपने भाई शिवपाल यादव ,जिन्हें नेता जी का हनुमान कहा जाता है उनका क्या हाल हुआ है सबके सामने है। तो फिर नेता जी ने ,पीएम मोदी को दोबारा पीएम बनने का आशीर्वाद क्यों दे दिया इसके पीछे कई कारण है।आपको ध्यान दिला दें . जब 2017 में योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री पद की शपथ ले रहे थे तब मुलायम सिंह यादव ने पीएम मोदी के कान में कुछ फूंका था, जिसको आज तक कोई नहीं जान पाया। और कल बुधवार को भी नेता जी ने उसी पैटर्न पर पीएम मोदी से अपनी बात कान में न फूँक कर भरे सदन में जोर जोर से कह दी ताकि उनके इस वयान को मोदी के प्रति सकारातमक देखा जाए।