कन्नौज: दो से अधिक डिफाल्टर की श्रेणी में आने वाले अधिकारियों से मांगा जाये स्पष्टीकरण: डीएम

Posted at : 2019-01-11 07:57:27

बृजेश चतुर्वेदी/कन्नौज।आई0जी0आर0एस0 के अन्तर्गत आने वाली शिकायतों का निस्तारण गुणवत्तापूर्ण सुनिश्चित किया जाये। डिफाल्टर की श्रेणी में आने से पूर्व ही निस्तारण की कार्यवाही हर संभव की जाये। लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के खिलाफ कडी कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी। यह निर्देश आज जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार ने कलेक्ट्रेट सभागार में आई0जी0आर0एस0 की बैठक की अध्यक्षता करते हुये संबधित अधिकारियों को दिये। उन्होनें मुख्यमंत्री हेल्पलाइन के अन्तर्गत कुल 208 शिकायतें डिफाल्टर होने की दशा में सबसे अधिक एडीओ पंचायत जलालाबाद की 24 शिकायतें डिफाल्टर होने पर कडी नाराजगी व्यक्त करते निर्देश दिये कि सभी अधिकारी अपने मोबाइल पर आईजीआरएस से संबंधित एप डाउनलोड करें साथ ही प्रतिदिन शिकायतों का अवलोकन भी करें। उन्होनें निस्तारित की गई शिकायतों की रैडण्म चेकिंग करते हुये सत्यापन की कार्यवाही का अवलोकन किया जिसमें निस्तारण की कार्यवाही में गुणवत्ता की कमी पायी गई, जिस पर जिलाधिकारी ने कड़े निर्देश देते हुये कहा कि शिकायत के निस्तारण में फर्जी या गलत ढंग से कार्यवाही किसी भी दशा में न की जाये बल्कि संबंधित शिकायतकर्ता से उसके मोबाइल नम्बर पर संतुष्टीकरण करना भी सुनिश्चित किया जाये, जिससे एक ही शिकायत की पुनरावृत्ति न हो सके। उन्होनें इस संबंध में पुलिस अधीक्षक एवं मुख्य चिकित्सा अधिकारी को पत्र भेजे जाने के भी निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने परिवहन निगम एंव औद्योगिक निगम के अन्तर्गत आने वाली शिकायतों के निस्तारण के संबंध में उच्चाधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कि इसमें गभीरतापूर्वक निस्तारण की कार्यवाही सुनिश्चित की जाये। उन्होनें पीओ डूडा के शिकायत निस्तारण की कार्यवाही में गुणवत्ता की कमी पाये जाने पर स्पष्टीकरण मांगने के साथ ही साथ खण्ड विकास अधिकारी सौरिख को स्पष्टीकरण तथा प्रभारी निरीक्षक कोतवाली तिर्वा के अनुपस्थित रहने पर पुलिस अधीक्षक को पत्र भेजे जाने के भी निर्देश दिये।